कोविड-19 महामारी से ठीक होने वालों की दर और बेहतर होकर 68.32 प्रतिशत पर पहुंच गई है

कोविड-19 महामारी
कोविड-19 महामारी

कोविड-19 महामारी से ठीक होने वालों की दर और बेहतर होकर 68.32 प्रतिशत पर पहुंच गई है

नयी दिल्ली, आठ अगस्त : केंद्र, राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा कोविड-19 की रोकथाम, जांच, पृथकवास और उपचार के लिये अपनाए जा रहे केंद्रित व प्रभावी प्रयासों के कारण इस महामारी से ठीक होने वालों की दर और बेहतर होकर 68.32 प्रतिशत पर पहुंच गई है जबकि मृत्युदर गिरकर 2.04 प्रतिशत रह गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी।

मंत्रालय ने कहा कि भारत में प्रति 10 लाख की आबादी पर संक्रमण के मामले सबसे कम 1,496 हैं जबकि वैश्विक औसत 2,425 है।

मंत्रालय के मुताबिक, प्रभावी निगरानी और जांच नेटवर्क में सुधार से मामलों के जल्दी पकड़ में आने के परिणामस्वरूप, गंभीर और जटिल मामलों में समय पर लोगों को उपचार मिल सका।

मंत्रालय ने कहा कि केंद्र, राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा अपनाई गई ‘जांच, निगरानी और उपचार’ की रणनीति के समन्वित क्रियान्वयन से यह सुनिश्चित हो सका कि वैश्विक परिदृश्य के मुकाबले मृत्युदर कम रहे।

मंत्रालय ने कहा, “यह लगातार गिर रही है और आज की तारीख में 2.04 प्रतिशत है। कोविड-19 से होने वाली मौत की दर को घटाने के लिये लक्षित प्रयासों की वजह से भारत प्रति 10 लाख आबादी पर मौत के आंकड़े को घटाकर 30 तक ले आया है जबकि वैश्विक औसत प्रति 10 लाख की आबादी पर 91 मौत का है।”

कोविड-19 से ठीक होने वालों की दर में भी तेजी से बढ़ोतरी हुई है। बीते 24 घंटों में 48,900 मरीजों के ठीक होने के साथ ही भारत में कोविड-19 से ठीक हो चुके मरीजों की कुल संख्या 14,27,005 हो गई है।

मंत्रालय ने कहा, “ठीक होने की दर में सतत बढ़ोतरी हो रही है और फिलहाल यह 68.32 प्रतिशत है।”

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में अभी 6,19,088 मरीजों का इलाज चल रहा है जो आज की तारीख में कुल संक्रमित मामलों का 29.64 प्रतिशत है। ये मरीज या तो अस्पतालों में चिकित्सकों की निगरानी में हैं या घर पर पृथक-वास में हैं।

मंत्रालय ने कहा कि देश भर में जांच के लिये प्रयोगशालाओं और केंद्रों को नेटवर्क में विस्तार की वजह से भारत अब तक 2,33,87,171 कोविड-19 नमूनों की जांच कर चुका है। शुक्रवार को ही 5,98,778 मामलों की जांच की गई।

मंत्रालय ने कहा, “प्रति 10 लाख की आबादी पर जांच में भी तेजी से बढ़ोतरी हुई है और यह आज 16,947 है।”

व्यापक पैमाने पर हो रही जांचों की एक बड़ी वजह जांच के लिये प्रयोगशालाओं में बढ़ोतरी है। भारत में अभी 936 सरकारी और 460 निजी प्रयोगशालाओं के साथ कुल 1396 प्रयोगशालाओं में कोरोना वायरस संक्रमण की जांच की जा रही है।

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सुबह आठ बजे तक के अद्यतन आंकड़ों के मुताबिक, भारत में आज 61,537 और मरीजों के मिलने के साथ ही संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 20,88,611 हो गई जबकि 933 और मरीजों की मौत के साथ ही इस बीमारी से जान गंवाने वालों का आंकड़ा 42,518 हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here