क्या श्रीराम मंदिर बनेगा तभी कोरोना जाएगा ? – शरद पवार

मुंबई:  अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए प्रस्तावित भूमि पूजन के कार्यक्रम को लेकर एनसीपी नेता शरद पवार ने कहा है कि कुछ लोगों को ऐसा लगता है कि मंदिर बनेगा उसी दिन कोरोना जाएगा. इसलिए शायद उन्होंने यह कार्यक्रम रखा होगा. हमारे लिए फिलहाल कोरोना वायरस सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है.

समय कौन सी बात को महत्व देना है इसके बारे सभी को हमेशा विचार करना चाहिए. हमारे लिए प्राथमिकता यह है कि कॉरोना से इन्फेक्टेड लोगों को कैसे ठीक करना है. कुछ लोगों को ऐसा लगता है कि मंदिर बनेगा उसी दिन कोरोना जाएगा. इसलिए शायद उन्होंने यह कार्यक्रम रखा होगा. वैसे इसके बारे में मुझे मालूम नहीं, हमारे लिए फिलहाल कोरोना वायरस सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है.

पवार ने कहा कि कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन जैसी चीज़ें हुई हैं. इसकी   वजह से जो आर्थिक संकट पैदा हुआ और जो छोटे व्यवसाय प्रभावित हुए हैं, उसकी हमे चिंता है. इसलिए मेरा आग्रह है राज्य और केंद्र सरकार इस ओर अधिक ध्यान दे. हमारे सहयोगी और उस्मानाबाद के सांसद लोगों को आर्थिक संकट से कैसे बाहर निकालना है, इस बारे में दिल्ली में बात करेंगे.

गौरतलब है कि शनिवार को श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अयोध्या में राम मंदिर की आधारशिला रखने के लिए अगले महीने की दो तारीखों का सुझाव दिया था. इसके बाद शरगद पवार की उक्त टिप्पणी आई है. ट्रस्ट ने तीन या पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शिलान्यास करने के लिए आमंत्रित किया है

.इस बीच, दक्षिण मुंबई से शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने  कहा कि भगवान राम उनकी पार्टी के लिए आस्था का विषय हैं और इस मुद्दे पर उनकी पार्टी कोई राजनीति नहीं करेगी. उन्होंने कहा कि राम मंदिर आंदोलन में शिवसेना की एक अहम भूमिका रही है. पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री बनने से पहले और कार्यभार संभालने के बाद भी अयोध्या का दौरा किया था.

शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार है. सावंत ने कहा कि लोगों का स्वास्थ्य सुनिश्चित करना और उन्हें सुरक्षा प्रदान करना शिवसेना नीत राज्य सरकार की प्राथमिकताएं हैं, जो रामराज्य की अवधारणा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here