कांग्रेस कार्य समिति ने सरकार के पेटोल और डीजल की कीमतो में बढ़ोतरी करने की निंदा करते हुए कोरोना महामारी का प्रसार रोकने की कार्ययोजना नहीं बनाने पर चिंता व्यक्त की है। कांग्रेस महासचिव के सी वेणुगोपाल तथा पार्टी संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कार्य समिति की बैठक के बाद मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह निंदनीय कदम है। पेट्रोल तथा डीज़ल के दाम ऐसे समय बढ़ाये जा रहे है जब कच्चे तेल की दर विश्व बाजार में सबसे कम स्तर पर हैै।

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के कारण लोग बढ़ती बेरोजगारी, आय की कमी और भारी वेतन कटौती से परेशान हैं , लेकिन सरकार सस्ता तेल गरीबो को महंगे दाम पर बेचकर उनका शोषण कर रही है।

कार्यसमिति ने कहा कि सरकार ने लॉकडाउन के दौरान पिछले तीन महीनो में पेट्रोल और डीजल के उत्पाद शुल्क में कई बार बढ़ोतरी की है और यह कदम अत्यंत चिंतनीय है। कार्यसमिति ने इसे अन्यायपूर्ण बढ़ोतरी बताया और कहा कि कोविड-19 महामारी के बीच यह कदम उठाना गहरी चिन्ता की बात है।

कार्यसमिति ने कोरोना संक्रमण का फैलाव कम होने की बजाय इसके बढ़ते ग्राफ पर चिंता व्यक्त की और कहा कि यह संख्या चार लाख के पार पहुंच चुकी है लेकिन स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि संक्रमण का शिखर अभी नहीं आया है।
समिति ने उन 14,000 से ज्यादा लोगों के परिवार के लोगों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है जिन्होंने इस महामारी की चपेट में आये अपने प्रियजनों को खोया है। डॉक्टर्स, नर्सों, पैरामेडिक्स आदि कोरोना योद्धाओ का आभार जताते हुए पार्टी ने उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त की और कहा कि वे अपना जीवन जोखिम में डालकर लोगो की सेवा कर रहे हैं। कांग्रेस प्रवक्ताओं ने कहा कि समिति ने पिछले आठ दिनों में एक लाख पॉज़िटिव मामले और प्रतिदिन संक्रमण के करीब 15,000 नए मामले सामने आने को गंभीर स्थिति करार दिया और कहा कि अस्पतालों के लिए यह कड़ी परीक्षा का समय है और ऐसे वक्त पर उनकी मदद करने की बजाय सरकार ने पीड़ितों को उनके हाल पर छोड़ दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here