सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में बिहार के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को क्वारंटीन किया

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में जब से बिहार पुलिस ने जांच शुरू की है, हंगामा बढ़ता जा रहा है। इस बीच जिस तरह से बिहार के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को क्वारंटीन किया गया, उस पर बिहार पुलिस और मुंबई पुलिस आमने-सामने आ गए हैं। इस पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बयान दिया है। उन्होंने कहा उनके साथ जो हुआ वो गलत है। ये राजनीतिक नहीं है, बिहार पुलिस अपनी ड्यूटी कर रही है। हमारे DGP उनसे बातचीत करेंगे। अब इस पर राजनीति तेज हो गई है।

सुशांत सिंह राजपूत मामला: बिहार पुलिस 2 कंपनियों, रिया चक्रवर्ती और मनी ट्रेल की जांच में जुटी

उधर, बिहार पुलिस ने सुशांत के मित्र दीपेश और सिद्धार्थ पठानी को नोटिस भेजा था। इसके बाद दीपेश रविवार की रात बिहार पुलिस के सामने हाजिर हुए, जबकि सिद्धार्थ ने भी पुलिस से संपर्क किया है। मुंबई में पटना के एसपी को क्वारंटीन करने पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि हम वहां के डीजीपी और अन्य अधिकारियों के साथ बात करने की कोशिश कर रहे हैं।

वहीं बीजेपी विधायक राम कदम ने कहा है, ‘मामले में शुरू से ही महाराष्ट्र सरकार का रवैया शक के घेरे में रहा है, मामले के जांच के लिए बिहार से बड़े ऑफिसर मुंबई आए और उन्हें 15 दिन के लिए क्वारंटाइन कर दिया गया। उन्होंने इस भय से उन्हें क्वारंटाइन किया कि कहीं सत्य सबके सामने न आ जाए।’

मुंबई में पटना एसपी को कोरेंटिन करने पर सीएम नीतीश

बताते चलें कि सुशांत के पूर्व रूम पार्टनर सिद्धार्थ पैठानी को पटना पुलिस ने नोटिस दिया था और आज बांद्रा पुलिस स्टेशन में पूछताछ के लिए बुलाया है। सुशांत के एक और रूम पार्टनर सिद्धार्थ गुप्ता से भी पटना पुलिस ने पूछताछ की है। सिद्धार्थ गुप्ता एक साल पहले सुशांत के साथ थे और स्ट्रगल आर्टिस्ट हैं। वहीं मुंबई में पटना एसपी को क्वारंटीन करने पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि जांच के लिए गए आईपीएस अधिकारी को क्वारंटीन करना सही नहीं है। इस मामले में जो हुआ है वह सही नहीं हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here